श्री गणेश चालीसा | Shri Ganesh Chalisa in Hindi

Simsodep
12 Min Read

हिंदू धर्म में, भगवान गणेश की पूजा को सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है। उन्हें सभी बाधाओं को दूर करने वाला और सफलता प्राप्त करने में सहायता प्रदान करने वाला देवता माना जाता है। इसलिए, किसी भी नई शुरुआत से पहले, लोग उनकी पूजा और प्रार्थना करते हैं, ताकि वह उनकी आशीर्वाद से नई उपक्रमों में सफलता प्राप्त कर सकें।

हर दिन, श्री गणेश चालीसा का पाठ करने से घरों में शांति और समृद्धि की वातावरण बनी रहती है। यह चालीसा उनकी महिमा का प्रतीक है और उसकी शक्तियों को स्तुति देने का एक उपाय है। जब भक्त गणेश बाप्पा की पूजा करते हैं और उनके चरणों में प्रणाम करते हैं, तो वह अपने जीवन में आने वाली सभी बाधाओं का समाधान प्राप्त करते हैं।

“श्री गणेश चालीसा” का पाठ भक्तों के द्वारा प्रतिदिन किया जाता है, ताकि उन्हें उनकी चुनौतियों को पार करने में सहायता मिल सके। इस चालीसा की गहरी महत्वपूर्णता है जो हमें उनके आशीर्वाद का अनुभव करने में मदद करती है और हमें उस दिव्य शक्ति से जुड़ती है जो हमें सभी दुर्भावनाओं और संकटों से मुक्ति प्रदान करती है।

इस लेख में, हमने “श्री गणेश चालीसा” की महत्वपूर्णता पर चर्चा की है और उसके महत्व को समझाया है। यह चालीसा हमें भगवान गणेश के प्रति भक्ति और श्रद्धा की महत्वपूर्णता को समझाती है और हमें उसके प्रति समर्पण और विश्वास की महत्वपूर्णता को प्रकट करती है। इससे हमें अपने जीवन में सकारात्मक परिणाम प्राप्त होते हैं और हम समस्याओं को परास्त करने में सफल होते हैं।


श्री गणेश चालीसा | Shri Ganesh Chalisa in Hindi

जय गणपति सद्गुण सदन कविवर बदन कृपाल।

विघ्न हरण मंगल करण जय जय गिरिजालाल॥

जय जय जय गणपति राजू। मंगल भरण करण शुभ काजू॥

जय गजबदन सदन सुखदाता। विश्व विनायक बुद्धि विधाता॥

वक्र तुण्ड शुचि शुण्ड सुहावन। तिलक त्रिपुण्ड भाल मन भावन॥

राजित मणि मुक्तन उर माला। स्वर्ण मुकुट शिर नयन विशाला॥

पुस्तक पाणि कुठार त्रिशूलं। मोदक भोग सुगन्धित फूलं॥

सुन्दर पीताम्बर तन साजित। चरण पादुका मुनि मन राजित॥

धनि शिवसुवन षडानन भ्राता। गौरी ललन विश्व-विधाता॥

ऋद्धि सिद्धि तव चँवर डुलावे। मूषक वाहन सोहत द्वारे॥

कहौ जन्म शुभ कथा तुम्हारी। अति शुचि पावन मंगल कारी॥

एक समय गिरिराज कुमारी। पुत्र हेतु तप कीन्हा भारी॥

भयो यज्ञ जब पूर्ण अनूपा। तब पहुंच्यो तुम धरि द्विज रूपा।

अतिथि जानि कै गौरी सुखारी। बहु विधि सेवा करी तुम्हारी॥

अति प्रसन्न ह्वै तुम वर दीन्हा। मातु पुत्र हित जो तप कीन्हा॥

मिलहि पुत्र तुहि बुद्धि विशाला। बिना गर्भ धारण यहि काला॥

गणनायक गुण ज्ञान निधाना। पूजित प्रथम रूप भगवाना॥

अस कहि अन्तर्धान रूप ह्वै। पलना पर बालक स्वरूप ह्वै॥

बनि शिशु रुदन जबहि तुम ठाना। लखि मुख सुख नहिं गौरि समाना॥

सकल मगन सुख मंगल गावहिं। नभ ते सुरन सुमन वर्षावहिं॥

शम्भु उमा बहुदान लुटावहिं। सुर मुनि जन सुत देखन आवहिं॥

लखि अति आनन्द मंगल साजा। देखन भी आए शनि राजा॥

निज अवगुण गुनि शनि मन माहीं। बालक देखन चाहत नाहीं॥

गिरजा कछु मन भेद बढ़ायो। उत्सव मोर न शनि तुहि भायो॥

कहन लगे शनि मन सकुचाई। का करिहौ शिशु मोहि दिखाई॥

नहिं विश्वास उमा कर भयऊ। शनि सों बालक देखन कह्यऊ॥

पड़तहिं शनि दृग कोण प्रकाशा। बालक शिर उड़ि गयो आकाशा॥

गिरजा गिरीं विकल ह्वै धरणी। सो दुख दशा गयो नहिं वरणी॥

हाहाकार मच्यो कैलाशा। शनि कीन्ह्यों लखि सुत को नाशा॥

तुरत गरुड़ चढ़ि विष्णु सिधाए। काटि चक्र सो गज शिर लाए॥

बालक के धड़ ऊपर धारयो। प्राण मन्त्र पढ़ शंकर डारयो॥

नाम गणेश शम्भु तब कीन्हे। प्रथम पूज्य बुद्धि निधि वर दीन्हे॥

बुद्धि परीक्षा जब शिव कीन्हा। पृथ्वी की प्रदक्षिणा लीन्हा॥

चले षडानन भरमि भुलाई। रची बैठ तुम बुद्धि उपाई॥

चरण मातु-पितु के धर लीन्हें। तिनके सात प्रदक्षिण कीन्हें॥

धनि गणेश कहि शिव हिय हरषे। नभ ते सुरन सुमन बहु बरसे॥

तुम्हरी महिमा बुद्धि बड़ाई। शेष सहस मुख सकै न गाई॥

मैं मति हीन मलीन दुखारी। करहुं कौन बिधि विनय तुम्हारी॥

भजत रामसुन्दर प्रभुदासा। लख प्रयाग ककरा दुर्वासा॥

अब प्रभु दया दीन पर कीजै। अपनी शक्ति भक्ति कुछ दीजै॥

दोहा

श्री गणेश यह चालीसा पाठ करें धर ध्यान।

नित नव मंगल गृह बसै लहे जगत सन्मान॥

सम्वत् अपन सहस्र दश ऋषि पंचमी दिनेश।

पूरण चालीसा भयो मंगल मूर्ति गणेश॥

श्री गणेश चालीसा (Shri Ganesh Chalisa) का क्या महत्व है?

श्री गणेश चालीसा का पाठ करने से हम भगवान गणेश की कृपा प्राप्त करते हैं, जिससे हमारे जीवन में आने वाले विघ्नों का नाश होता है। यह चालीसा हमें गणपति बाप्पा की महिमा और उनकी अद्भुत शक्तियों का वर्णन करती है, जिससे हमारे जीवन में साहस और संजीवनी शक्ति का आभास होता है.

इस चालीसा में भगवान गणेश को ‘विघ्नहर्ता’ के रूप में पूजा जाता है, जो सभी प्रकार के विघ्नों का नाश करने के लिए प्रसिद्ध हैं। उनकी शक्ति से हम सभी मुश्किलों को पार करने में सक्षम होते हैं और अपने लक्ष्यों की प्राप्ति के दिशा में बढ़ते हैं। श्री गणेश चालीसा का पाठ करते समय, हम अपने भक्ति और श्रद्धा के साथ उनकी कृपा को महसूस करते हैं और उनके प्रति हमारी विशेष स्नेहभावना होती है.

इस चालीसा के माध्यम से भगवान गणेश को ‘बुद्धिप्रदायक’ के रूप में भी पूजा जाता है, क्योंकि वे विद्या और ज्ञान के प्रदाता हैं। इस पाठ से हम अपनी बुद्धि को शुद्ध करते हैं और ज्ञान की प्राप्ति के लिए उनकी कृपा की प्राप्ति करते हैं, जो हमें शिक्षा के क्षेत्र में सफलता प्रदान करती है.

श्री गणेश चालीसा का पाठ करने से हम भगवान गणेश से अपने जीवन के लिए शुभ प्रार्थनाएँ करते हैं। हम उनसे अपने जीवन की समस्याओं का समाधान मांगते हैं और उनके आशीर्वाद से हमें पुण्य फल प्राप्त होता है. इस चालीसा के माध्यम से हम अपने जीवन में खुशियों की प्राप्ति करते हैं और हर कदम पर गणेश जी के साथ चलते हैं, जिससे हमें उनकी शक्ति से प्रेरणा मिलती है और हम अपने जीवन को धार्मिकता और समर्पण की भावना से भर देते हैं. श्री गणेश चालीसा हमारे जीवन को मार्गदर्शन और सफलता की दिशा में आगे बढ़ाने में मदद करती है।


श्री गणेश चालीसा (Shri Ganesh Chalisa) की अति महत्वपूर्ण बात

श्री गणेश चालीसा, जिसे श्री गणेश चालीसा कहा जाता है, एक प्रमुख हिन्दू धार्मिक पाठ है जिसका महत्व अत्यधिक है। यह पाठ श्री गणेश, जिन्हें हिन्दू धर्म के प्रमुख देवता माना जाता है, की महिमा को स्तुति अर्पित करता है। इस चालीसा में गणेश भगवान के गुणों, महिमा और शक्तियों की विविधता का वर्णन है, जो हमें एक महत्वपूर्ण सिखने की दिशा में प्रेरित करता है।

यह चालीसा हमें बताती है कि श्री गणेश कैसे हमारे जीवन में आने वाली सभी समस्याओं का समाधान प्रदान करते हैं। इसके पाठ से हमें आत्म-विश्वास, संगठन और समर्पण की भावना प्राप्त होती है, जो हमें जीवन के हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त करने में मदद करती है।

श्री गणेश चालीसा का पाठ करने से हमें मानवता और समय का महत्व समझाया जाता है। यह हमें शांति, संतुलन और समृद्धि की प्राप्ति के मार्ग में मार्गदर्शन प्रदान करता है। इसका पाठ करने से हमें आत्मिक शक्ति का अनुभव होता है और हम अपने जीवन को सजीव और खुशहाल महसूस करते हैं।

श्री गणेश चालीसा का पाठ अत्यंत महत्वपूर्ण है और यह हमें एक उज्जवल भविष्य की ओर ले जाता है। हमें यह याद दिलाता है कि संकटों और मुश्किलों का सामना करने में हमें शक्ति और साहस की आवश्यकता होती है और जब हम भगवान के प्रति श्रद्धा रखते हैं, तो हमें हमेशा ही उसका साथ मिलता है।


श्री गणेश चालीसा के लाभ | Benefits of Shri Ganesh Chalisa

श्री गणेश चालीसा (Shri Ganesh Chalisa) एक परिवार में सभी समस्याओं को दूर करने के लिए प्रसिद्ध है। इस प्रेरणादायक चालीसा का पाठ करने से भगवान गणेश की कृपा प्राप्त होती है और जीवन में समृद्धि, धन, और सौभाग्य की प्राप्ति होती है।

उन व्यक्तियों को खास ध्यान देने की आवश्यकता है जो दैनिक जीवन में श्री गणेश चालीसा का पाठ करते हैं, क्योंकि यह उनके जीवन को सशक्त और सुखमय बनाता है। इस पवित्र पाठ के माध्यम से, व्यक्ति निरंतर शांति, सुख, और आनंद का अनुभव करता है, और उन्हें अपने लक्ष्यों की प्राप्ति में मदद मिलती है।

इस प्राचीन चालीसा का पाठ करने से श्री गणेश की कृपा बरसती है और विभिन्न प्रकार की आशाएं पूरी होती हैं। यह चालीसा एक परिवार के सभी सदस्यों के जीवन में सौभाग्य और समृद्धि की वृद्धि करती है, और उन्हें सफलता की ओर आग्रहण करने में मदद करती है।

इसलिए, श्री गणेश चालीसा का पाठ करके हम न केवल भगवान गणेश की पूजा करते हैं, बल्कि हम अपने जीवन को भी समृद्ध, खुशीयों से भर देते हैं और सभी समस्याओं का समाधान पाते हैं।

निष्कर्ष – Shri Ganesh Chalisa in Hindi

श्री गणेश चालीसा का पाठ करने से हमारे जीवन में आने वाली समस्याओं का समाधान प्राप्त करने का मार्ग प्रशस्त हो जाता है। इस पवित्र चालीसा के पाठ से हम भगवान गणेश के साथ हमें अपने जीवन में हर कदम पर आगे बढ़ने के लिए प्रेरित होते हैं, और इससे हमारा आत्म-संवाद भी मजबूत होता है।

इसलिए, हमें नियमित रूप से श्री गणेश चालीसा का पाठ करना चाहिए, ताकि हम अपने जीवन में सुख, समृद्धि, और शांति के आशीर्वाद प्राप्त कर सकें, और हमारा मानसिक स्थिति भी सकारात्मक बने। गणेश चालीसा के पाठ से हम अपने लक्ष्यों की प्राप्ति में सहायक होते हैं और अपने जीवन के हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त करने के लिए प्रेरित होते हैं। इसके अलावा, यह हमें ध्यान, संज्ञान, और साहस में वृद्धि करने में भी मदद करता है।

इसलिए, हमें इस पावन चालीसा का पाठ नियमित रूप से करना चाहिए और श्री गणेश के आशीर्वाद को प्राप्त करने के लिए अपने मार्ग पर सजग रहना चाहिए। इससे हमारा जीवन सफल, खुशहाल, और सामृद्धिपूर्ण होता है।

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *